MLM Hindi News

क्या अंतर है पुरानी मार्केटिंग और मल्टी लेवल मार्केटिंग मे

Written by Mahender Singh
Rate this News

जब इंटरनेट का इस्तेमाल ज्यादा प्रचलित नही था। तो सीधे तौर पर शाॅप टू शाॅप यानि की सामान लेने के लिए एक दुकान से दुसरी दुकान पर घुमना पड़ता था। जिसके लिए ग्राहको को दुकानदार द्वारा तय की गई वस्तु का मुल्य ही चुकाना पडता था। जिस पर दुकानदार अपनी दुकान का किराया, अपने सेल्समेन की तनख्वाह आदि का भार भी ग्राहको पर पडता था। लेकिन इतना सब के बावजूद भी ग्राहक ने जो वस्तु खरीदने के लिए उने का दुना रकम चुकाता है, उसके बावजूद भी ग्राहको को उसके सामान की गुंणवत्ता का कोई गारंटी नही होती है।
इसके अलावा एक तथ्य और सामने आया है।

वो ये है कि जब कंपनी या फैक्ट्री से माल ग्राहको तक प्रचार प्रसार से होकर ट्रांसपोर्ट से होकर विक्रेता के माध्यम से ग्राहको तक पहुंचता है। निकलता हैं। जिसमे कि बिचैलियो की भी कमीशन ग्राहको को चुकानी पडती है। इसके अतिरिक्त कंपनी द्वारा किए गए प्रोडक्ट के प्रचार प्रसार का खर्च भी ग्राहको की जेब पर पडता है।

नेटवर्क मार्केटिंग/ MLM

नेटवर्क मार्केटिंग/ MLM

नेटवर्क मार्केटिंग/ MLM

नेटवर्क मार्केटिंग या फिर यूं कहें कि मल्टी लेवल मार्केटिंग का व्यापार जब से बाज़ार मे आया है तब से नेटवर्क मार्केटिंग से लोगो को काफी सहुलियत मिल गई हैं। पुरानी यानि की ट्रेडिशनल मार्केटिंग मे ग्राहको तक सामान बिचैलियो के माध्यम से बैचा जाता था। लेकिन मल्टी लेवल मार्केटिंग मे बिना किसी बिचैलिए के ग्राहको पहुंचाया जाता है। जिसके चलते मल्टी लेवल मार्केटिंग से मिलने वाला प्रोडक्ट बाज़ार भाव से काम भाव मे ग्राहको को पड़ता है। वो इसलिए कि कंपनी चाहे अपने प्रोडक्ट के प्रचार प्रसार मे जितना भी खर्च करें, उसकी भरपाई ग्राहको को नही करनी पडती है।

मल्टी लेवल मार्केटिंग मे किसी भी सामान की खरीद के लिए आपको शाॅप टू शाॅप, या फिर एक दुकान से दुसरी पर भटकना नही पडता है। घर बैठकर ही सामान खरीद सकते हैं जिसका कोई अतिरिक्त मुल्य नही चुकाना पडता है। इसके अलावा MLM ने बिजनेस करना भी लोगो के लिए आसान बना दिया है। नेटवर्क मार्केटिंग मे बिना किसी बिचैलियो या किसी माध्यम से आपको अपने टारगेट यानि की लक्ष्य तक पहुंचाने मे आपकी सहायता करता है।

इतना ही नही ट्रेडिशनल यानि की पुरानी सिस्टम वाली मार्केटिंग किसी भी ब्रांडेड कपनी की फ्रेंचाइजी लेने के लिए कंपनी को बहुत सारे नियमो के अनुसार चलना पडता है, व गारंटी के तौर पर सुरक्षा मनी भी चुकानी पडती है। ताकी वह कंपनी अन्य लोकल प्रोडक्ट नही खरीदें।

MLM मे अपने पैसे लगाने से पहले पूरी तरह इस बात की पूष्टी कर लें कि जिस व्यक्ति के भरोसे आप अपने पैसे इंवेस्ट कर रहे है वो कहीं फ्रोड़ तो नही है। वो MLM मे व्यापार करता भी है या नही अगर करता है तो किस उत्पाद मे पैसे इंवेस्ट करता है व ऐसी ओर भी कई जानकारी है जो आपको होना बेहत जरुरी है।

अगर आपके पास भी मल्टी लेवल मार्केटिंग से जुडी कुछ जानकारी है या फिर आप हमसे कुछ पुछना चाहतें हैं तो कमेंट बाक्स मे जाकर कमेंट कर सकतें हैं।

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 324 other subscribers

Leave a Reply

5 Comments

  • कैसे पता चलेगा की कंपनी सही ह
    मैट्रिक्स प्लान वाली कंपनी का क्या डोकोमेन्ट होगा
    जिस से हमें पता चले और कंपनी परोडक्ट पर आदारित ह की कंपनी सही